एक अपुर्ण प्रेम पत्र

Friday, 19 November, 2010 | comments (2)

अनुभूति
गुजरे दिनो की
तब मै इतना बेबस न था
क्योंकि इतना बडा न था
ये बडा होना बेबसी का कहर बरपाता चला जायेगा
और मिलने पर कभी सडक के आर पार
खिलखिलाकर मुस्कुरा देगें


होने पर सामना
उमड़ती भावनाओं को
अनुपस्थिती के जज्बातों को
आंखो की नमी से धुमिल कर देंगें।
 
Support : Creating Website | Johny Template | Mas Template
Copyright © 2011. रम्य-रचना - All Rights Reserved
Template Created by Creating Website Published by Mas Template
Proudly powered by Blogger